मोहब्बत में अगर-मगर !'s image
Poetry1 min read

मोहब्बत में अगर-मगर !

AbhishekAbhishek November 28, 2021
Share0 Bookmarks 20 Reads0 Likes

कहते हैं जो मुझ को

जान - जान

है दिल में उनके

यूँ भी अरमान ....

"हो न सके गर तुम्हारे तो, 

न समझना, ग़लत इंसान I

दोस्त बन, फिर भी, 

साथ निभाना I

कर देना ये, 

आख़िरी एहसान" II


   - अभिषेक

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts