हक़ीक़त's image
Share0 Bookmarks 30 Reads1 Likes

साल आता है, साल जाता है

आम आदमी, आम ही रह जाता है !

अमीर, "कुबेर" बन जाता है

ग़रीब, पाई पाई को तरस जाता है !


            - अभिषेक

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts