हमारा बिहार's image
Poetry2 min read

हमारा बिहार

AbhishekAbhishek March 22, 2022
Share0 Bookmarks 115 Reads0 Likes

जो कहते हैं बिहार को बेकार

सच से उनको नहीं सरोकार

कला, संगीत, साहित्य, विज्ञान

शिक्षा, राजनीति, खेल, विधान

अनछुआ नहीं है कोई संसार

प्राचीन संस्कृति स्वर्णिम अतीत से

नूतन अभिनव समृद्ध तकनीक तक

गौरवशाली है इसका विस्तार

पूजनीय है बिहार की मिट्टी

जिसमें हुआ रत्नों का उदय

है इस भूमि से जिनका नाता

लाज़मी नहीं उनका परिचय

किस किस का मैं ज़िक्र करूँ

प्रतिभाओं की तो है भरमार


राजेंद्र प्रसाद, अनुग्रह नारायण

अशोक, आर्यभट्ट, चंद्रगुप्त

चाणक्य, शेरशाह, महावीर

वीर कुंवर, दिनकर, नागार्जुन

गुरु गोविंद, जयप्रकाश नारायण


दलेर, मैथिली, दिपाली किशोर

शारदा जी की मधुर आवाज़ का

ख़ूब छाया है जादू चारों ओर


विभूतियों की जननी बिहार

अद्भुत, अनोखे वशिष्ठ नारायण

होनहार गणितज्ञ आनंद कुमार

असाधारण तथागत अवतार

दादा मुनि अशोक कुमार

शत्रुघ्न बाबू का अभिनय दमदार

लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार

विकास पुरुष नितीश कुमार


सबा करीम, कीर्ति आज़ाद

नौजवान क्रिकेटर इशान

भिखारी ठाकुर, कर्पूरी, विद्यापति

बिस्मिल्ला खाँ से कौन अंजान


पर्वत का कद छोटा कर डाला

जब तक राह नहीं निकाला,

जुनूनी इंसान वो रहा बेचैन

दशरथ माँझी बना माउंटेन मैन


हज़ारों नायाब हीरे और भी हैं

है जिन पर प्रदेश को अभिमान

न कर सका मैं जिनका बखान

उन सबके प्रति भी यारों

दिल में मेरे है वही सम्मान

एक से बढ़ कर एक बिहारी

जिन्होंने इतना बढ़ाया मान

अथक परिश्रम करते गए सब

चढ़ते गए सफलता का सोपान

निः संदेह शब्द कम पड़ जाएंगे

करते करते, बिहार का गुणगान


इस बात से भी नहीं इनकार

ज़रूरी कई सकारात्मक सुधार

अभी और बढ़ना है बिहार को

करना है नए सपनों को साकार


       - अभिषेक


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts