सूरज चाँद's image
Share0 Bookmarks 45 Reads0 Likes

सोया होगा चाँद न मिलकर सूरज से,

रोया होगा चाँद निकल कर पूरब से। 


खोया होगा नूर न मिलकर सूरज से, 

धोया होगा नूर निकल कर पूरब से। 


बोया होगा बैर न मिलकर सूरज से,

गोया होगा गैर निकल कर पूरब से। 


संजोया होगा साख न मिलकर सूरज से, 

भिगोया होगा आँख निकल कर पूरब से। 


-रविन्द्र राजदार

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts