फँसन और निकलन's image
Share0 Bookmarks 225 Reads2 Likes
हर बार निकलना चाहे मन,
हर बार ये फंसता जाता है |

इसी फँसन और निकलन में,
ये जीवन ही बिता जाता है | 

हर बार जताना चाहे प्यार,
हर बार ही क्यूँ घबराता है |

इसी फँसन और निकलन में,
ये इश्क़ भी चलता जाता है |

हर बार ही उड़ना चाहे मन,
हर बार ये गिरता जाता है |

इसी फँसन और निकलन में,
ये सफर सरकता जाता है |

हर बार जुबाँ तक लाये मन,
हर बार ये चुप रह जाता है |

इसी फँसन और निकलन में,
सब चुपचाप ही कह जाता है |

हर बार ही सुख को चाहे मन,
हर बार ये दुःख आ जाता है |

इसी फँसन और निकलन में,
सुख दुःख का सुन्दर नाता है |


 - रविन्द्र राजदार

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts