इश्क़ न करना...'s image
Love PoetryPoetry1 min read

इश्क़ न करना...

Ravi NakumRavi Nakum October 3, 2021
Share1 Bookmarks 108 Reads1 Likes
अब बचा ही क्या है
इस जहां में
मैं मेरी तन्हाई और ये ख़ामोशी
जो छूटना था
वो सब कब का छूट गया मेरे पीछे
जो संभाला हुवा था
मैने अपने इन हाथों में
वो सब भी फिसलता गया
कोरी रेत के जैसे
अब कहा मतलब है किसको
मेरे होने या ना होने से
मैं तो बन गया हूं अब
चलता फिरता कोई पुतला हु जैसे
भूल कर भी कभी इश्क़ न करना
वरना बन जाओगे 
बिलकुल मैं बन गया हु वैसे

-रवि नकुम (ख़ामोशी)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts