मजदूर's image
Share0 Bookmarks 26 Reads0 Likes

वैसे तो कोई पूछता नही

इनकी विरासत तो बरसों की है

जाओ कोई मजदूरो की बस्ती में

जहाँ रोटियों की क़ीमत महँगी है

इनकी जानें कुछ सस्ती सी

तुमने देखीं होंगी कुछ तस्वीरों में

आधे लिबास में कुछ पुरे हॅसते चेहरे

ईंधन की ज़गह ख़ून झोंखक़र

सड़के,घऱ कुछ यूँ बनाते

सब पैसे से पैसा कमाते

पर ये दो वक़्त का घर चलाते

दूर दराज़ जाके अपने परिवारों का पेट पालते

शौक़ मुनासिब इनके भी होंगे

पर वक़्त कहाँ इनपे मेहरबां हो पाते

ज़ख़्म इन्हे ही भी होते हैं

कहाँ कोई मरहम बन पाते

बहरा समाज क्या इतना भूखा हो गया है

इनकी रोटियाँ इनसे छीन के इनको ही भूखा नंगा कह जाते

#ravim1987

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts