हवा का झोंका's image
1 min read

हवा का झोंका

Ravi MishraRavi Mishra June 16, 2020
Share0 Bookmarks 31 Reads1 Likes

क्यों गुज़र जाता है चुपके से आके

ये हवा का झोंका

जीना सिखाता है , बेइंतहा प्यार देता है

पर फिर अकेला क्यों छोड़ जाता है

ये हवा का झोंका

तू ना होता तो क्या होता पता नहीं

हां पर तेरे जाने से मैं कितना बदल गया हूँ

अब मैं समझ नहीं पाता

फिर तू ही बता

तुझे कैसे मैं फिर वापस बुलाऊँ

ऐ हवा का झोंका

क्यों गुज़र जाता है चुपके से आके

ये हवा का झोंका

इतनी ऊमस है अभी भी इस जिंदगी में

पर फिर अब तू क्यों ना बेहता

ऐ हवा का झोंका

पता ही नहीं चला तू कब आया

इतना सुकून ले के

अभी तो तुझे महसूस ही किया था

फिर अभी ही तुझे क्यों जाना था

ऐ हवा का झोंका

क्यों गुज़र जाता है चुपके से आके

ये हवा का झोंका

जीना सिखाता है , बेइंतहा प्यार देता है

पर फिर अकेला क्यों छोड़ जाता है

ये हवा का झोंका......

..................................... miss you हवा का झोंका..

#ravim1987


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts