बेपरवाह बचपन's image
1 min read

बेपरवाह बचपन

Ravi MishraRavi Mishra June 16, 2020
Share0 Bookmarks 27 Reads0 Likes

याद कोई पुरानी सी है

किसी कोने की तख्तियो से झांकि सी है

वो कल ही था जब हम बेसुध से भागे थे

कभी घर के दिवारों से फांदे थे

और कभी अतरंगी से नाचे थे

आज उम्रदराज लगती ये सोच

बस कल ऐसे ही फूटे थे

कभी ये हंसी के ठहाके

और कभी गम को भी कूटे थे।

#बेपरवाहबचपन

#ravim1987 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts