अल्फ़ाज़ दर्द-ए-मोहब्बत's image
Love PoetryPoetry1 min read

अल्फ़ाज़ दर्द-ए-मोहब्बत

Ravi kant KuderiyaRavi kant Kuderiya October 26, 2021
Share0 Bookmarks 30 Reads1 Likes
जा रही है छोड़कर हमें तड़पता हुआ दर्द-ए-मोहब्बत में , तो जाए।

दुआ करूँगा रब से यही की अब वो लौटकर न आये।।

एक ही लम्हे में तोड़ गए है दिल को वो , जिन्हें कभी इसी दिल मे बसाया था हमने।

एक बार तो सँभल जायँगे उनकी बेवफ़ाई से , कोई बार - बार टूटकर कैसे जुड़ पाए।।

बहुत तकलीफ होती है जीने में , जब कोई मोहब्बत में खेल जाता है हमारे दिल से ।

जरा संभल कर कदम रखना यारो दुनियादारी की राहों में , कहीं आपको भी प्यार न हो जाये।।



   ~ रवि कान्त कुड़ेरिया

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts