हो सौभाग्य मेरे राष्ट्र का's image
Poetry1 min read

हो सौभाग्य मेरे राष्ट्र का

RAVI GehlotRAVI Gehlot October 8, 2021
Share0 Bookmarks 9 Reads1 Likes

हो सौभाग्य मेरे राष्ट्र का 

चले नित प्रगति पथ पर, 

 मार्ग सुनहरे मनभावन पर 

चले उज्जवल स्वर्ण रथ पर |


सब खुशहाल हो आनंद से भरपूर 

राम राज से भी बढ़कर नव राज हो 

छोड़ पुरानी परी पाटी जो निचा दिखाती हो 

नये जीवन का संचार हो 


है राष्ट्र छुपाए असीम निधि 

कर दूर सब हीनता 

मानवता का विकास कर 

रूढ़ि वादी विचार धारा का त्याग कर 


आज मानवता शर्मसार हो रही है 

पहचान तेरी बदनाम हो रही है 

उठ जग धर नया अवतार 

सब बुराइयाँ दूर कर 


तेरा दीप अमर रहे 

भारत अखंड अमिट रहे 

ज्ञान रूपी दिव्य उजाला हो 


सहना ना पड़े वनवास किसी को

ना अग्नि परीक्षा हो, चीर हरण का नाम न हो 

बली सती से दुरी हो 

ना अंगूठा कटवाना किसी की मज़बूरी हो 

सबकी नजरों मे श्रदा सबुरी हो 

(रवि ओजस्वी )


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts