वजूद's image
Share0 Bookmarks 204 Reads0 Likes

वो साये हल्के से धुधले से हो कितने भी,

खुद में चाहे कितने उल्झे भी

पर है वजूद अनंत और अंजान सा।

” Rashid Ali Ghazipuri “




For My Books:-

https://www.amazon.in/Rashid-Ali-Ghazipuri/e/B09PLL8ZCB

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts