तड़प ये रूह की's image
Share1 Bookmarks 213 Reads0 Likes

तड़प ये रूह की

क़ल्ब भी सिहर उठे

अब भला ये राग कैसा

जो हर दिल जल उठे,

जिस्मो की ये दुनिया

जिसमें सारी रूहें उलझी,

बस बेबस ही हैं वो

सिर्फ तड़पती और सिसकती,

निज़ात की ये आस लिए

बस आसमा को ही तकती…


“rashid ali ghazipuri”





For My Books:-

https://www.amazon.in/Rashid-Ali-Ghazipuri/e/B09PLL8ZCB

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts