मरीज़े इश्क़'s image
Poetry1 min read

मरीज़े इश्क़

Rashid AliRashid Ali June 19, 2022
Share0 Bookmarks 390 Reads0 Likes

मरीज़े इश्क़ हैं

जख्म छुपाने की आदत अपनी

न शिफ़ा की चाहत , ना कोई दवा मुफीद है

बस फिरते हैं, तनहा तनहा खुद ही

न ही कोई हमसफ़र न कोई मंजिल करीब है…

“rashid ali ghazipuri”



For My Books:-

https://www.amazon.in/Rashid-Ali-Ghazipuri/e/B09PLL8ZCB

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts