चाहने लगी है's image
Love Poetry1 min read

चाहने लगी है

Ramji PathakRamji Pathak June 16, 2020
Share0 Bookmarks 32 Reads0 Likes

मेरी तरफ देखकर वो मुस्कुराने लगी है

लगता है वो मुझे चाहने लगी है

मेरी बातें आजकल वो सखियों को बताने लगी है

लगता है वो मुझे चाहने लगी है

जो कभी सीधे चला करती थी

अब वो इतराने लगी है

लगता है वो मुझे चाहने लगी है

जिसके बाल उलझे से रहते थे

सवाल सुलझे से रहते थे 

आज वो बातों में उलझाने लगी है

लगता है वो मुझे चाहने लगी है

जो कभी आईना न देखती थी 

वो आईने के सामने मुस्कुराने लगी है

लगता है वो मुझे चाहने लगी है

पहले जो कभी सपने न देखती थी 

आज वो दिन में भी सपनों में खो जाने लगी है

लगता है वो मुझे चाहने लगी है

यूँ तो श्रृंगार पसंद न था उसे

पर आज घंटो श्रृंगार करने लगी है

जो कभी एक मैसेज करती थी

आज घंटों फ़ोन पर बातें करने लगी है

लगता है वो मुझे चाहने लगी है।

-Ramji Pathak

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts