Holi's image
Share0 Bookmarks 9 Reads0 Likes

कर्मक्षेत्र ऐसा की बनाकर पुतला 

   आदर्श का पकड़ कर बैठे है.

एक हम है जो रंग लगाने की

  हसरत मन में लिए बैठे है|

  

और अब फंसे हैं सफर में

 न हसरत पूरी हुई न करम


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts