सुबह से शाम  ' हैरान ''s image
Love PoetryPoetry1 min read

सुबह से शाम ' हैरान '

Rajeev Kumar SainiRajeev Kumar Saini November 10, 2022
Share0 Bookmarks 30 Reads0 Likes

खोया रहा तसव्वुर में उनके सुबह से शाम हो गई,

शाम ढ़ले उनकी यादें चराग ए बाम हो गई।

 - राजीव ' हैरान '

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts