साकी़  ' हैरान ''s image
Share0 Bookmarks 40 Reads0 Likes

ये चिराग सभी बाम के, 

ये सितारे घनी शाम के,

इन्तज़ार में हैं सभी तेरी,

बैचेन हैं मेरी तरह,

ए साकी़ मेरे शाम के.

 - राजीव ' हैरान '

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts