शागिर्द  ' हैरान ''s image
Poetry1 min read

शागिर्द ' हैरान '

Rajeev Kumar SainiRajeev Kumar Saini November 5, 2022
Share0 Bookmarks 33 Reads0 Likes

जिन्दगी के क्यूँ न शागिर्द हो रहें,

हर रोज नया सबक देती है।

  - राजीव ' हैरान '

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts