पुरकैफ़ लम्हा  ' हैरान ''s image
Romantic PoetryPoetry1 min read

पुरकैफ़ लम्हा ' हैरान '

Rajeev Kumar SainiRajeev Kumar Saini January 3, 2022
Share0 Bookmarks 65 Reads0 Likes

न मयकदे की तलाश है,

न इश्क की है आरजू,

वो लम्हा जो पुरकैफ़ हो,

उस एक पल की है जुस्तजू।

   - राजीव ' हैरान '

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts