प्रीत  ' हैरान ''s image
Share0 Bookmarks 12 Reads0 Likes

जब से तुम सपनों में आई,

महक उठी मन की अंगनाई,

मैंने तुमको अपना समझा,

सच्ची तुमने प्रीत निभाई.

 - राजीव ' हैरान '

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts