ख्वाब और ख्याल ' हैरान ''s image
Romantic PoetryPoetry1 min read

ख्वाब और ख्याल ' हैरान '

Rajeev Kumar SainiRajeev Kumar Saini April 16, 2022
Share0 Bookmarks 100 Reads0 Likes

दिल अपना न रहा,

वो हमारे न रहे,

ख्वाब उनके ही रहे,

ख्याल अपना न रहा.

 - राजीव ' हैरान '

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts