खुदपरस्त  ' हैरान ''s image
Love PoetryPoetry1 min read

खुदपरस्त ' हैरान '

Rajeev Kumar SainiRajeev Kumar Saini March 23, 2022
Share0 Bookmarks 16 Reads0 Likes

मेरे अहद ए वफ़ा पर वो बरहम हो गए,

हम बेकरार होते रहे वो गैर के हमदम हो गए,

इस खुदपरस्त दुनिया में वफ़ा की राह मुश्किल है,

हम चाक ए जिगर हुए वो गैर के मरहम हो गए.

 - राजीव ' हैरान '

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts