बिन तेरे। ' हैरान ''s image
Love PoetryPoetry1 min read

बिन तेरे। ' हैरान '

Rajeev Kumar SainiRajeev Kumar Saini May 10, 2022
Share0 Bookmarks 72 Reads0 Likes

तेरे बिन सहर उदास है,

तेरे बिन शाम उदास है,

बिन तेरे दर्द ए दिल की दवा नहीं,

बिन तेरे चिराग ए बाम उदास है ।

 - राजीव ' हैरान '

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts