बिछुड़ने का ग़म  ' हैरान ''s image
Love PoetryPoetry1 min read

बिछुड़ने का ग़म ' हैरान '

Rajeev Kumar SainiRajeev Kumar Saini May 26, 2022
Share0 Bookmarks 30 Reads0 Likes

बिछुड़ कर तुझसे इस कदर बेखुद हुए, 

तू सामने थी हम ग़म ओढ़ सोते रहे ।

राजीव ' हैरान '

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts