बेपरवाह ' हैरान ''s image
Poetry1 min read

बेपरवाह ' हैरान '

Rajeev Kumar SainiRajeev Kumar Saini March 8, 2022
Share0 Bookmarks 0 Reads1 Likes
तुम बेपरवाह रहे मेरी आशनाई से,
हम पशेमां रहे अपनी जगहँसाई से,
हम सोए नहीं कई कई रातों को,
तुम दूर ही रहे मेरे इश्क की परछाई से.
  - राजीव ' हैरान '

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts