अफ़साने और सच ' हैरान ''s image
Valentines PoetryPoetry1 min read

अफ़साने और सच ' हैरान '

Rajeev Kumar SainiRajeev Kumar Saini December 26, 2021
Share0 Bookmarks 48 Reads0 Likes

जितने लब उतने अफ़साने हैं ,

किसी से सच की खबर नहीं मिलती ,

हमेशा आईना साथ रख नहीं सकते ,

हमसे दोस्तों की नजर नहीं मिलती ।

       - राजीव ' हैरान '

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts