नदिया's image
Share0 Bookmarks 28 Reads0 Likes

कोई कहता है इसे दरिया 

कोई कहता है इसे नदिया 

कितनो को इसने जीवन दिया 

कितनो को जीने का जरिया

सबकी प्यास बुझाती

सबको गले लगती 

सभ्यता की हो पहचान

लोग करते इसमें स्नान

पापो से तुम मुक्त करती

निर्मल मन को शुद्ध करती

गंगा जमना सरस्वती कितने है तेरे नाम

भारत की मुक्तकामी चेतना का द्वार

पर्वतों को आदर देती 

पूर्वजो के मोक्ष का द्वार

है वेदों में जिक्र तेरा

अब नही आस्तित्व तेरा

कभी न रुकती कभी न थकती

शुद्ध निर्मल कल-कल बहती

धरती माँ के आंचल में 

आगे बढ़ना ही जीवन है

नदिया हमे सिखाती


रोहन जोशी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts