Kya pta kal kya ho jaye's image
Share0 Bookmarks 32 Reads1 Likes

अनजानी राह में तेरी मुश्किलों से टकरार हो जाए

क्या पता कल तेरे अपनों से ही तेरी टकरार हो जाए

जो वर्षों से मन में छुपी हों , उन कड़वी बातों का भी इजहार हो जाए

न इधर का पता न उधर का , जिंदगी दर्द की वो मझधार हो जाए


जो सोचा भी न हो तुमने, ऐसे वक्त की शुरुआत हो जाए

क्या पता बेरंग सुखी जिंदगी में रंगों की बरसात हो जाए

जिसे हमेशा खोजता रहा तू,कल तुझमें ही वो बात हो जाए

दिन मुश्किल में कटे हैं तेरे , शायद सुहानी आने वाली हर रात हो जाए

पहली का पता न दूसरी का , तेरी जिंदगी में कौन सी बात हो जाए



कल क्या हो क्या पता , पर आज तो तेरे हाथ में है

जिन लम्हों या लोगों की जरूरत है , सारे अपने तेरे साथ में है

जिंदगी अगर जंग है, तो लड़ने का जौहर तेरे पास में है

जो जरूर है तेरे लिए, लकीर हर एक तेरे हाथ में है

जो हुआ रहने दे मेरे दोस्त, आगे बढने का जुनून तेरे पास में है

दर्द कितना भी हो तेरी राह में , उससे लड़ने का जोश हर सांस में है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts