दर्पण's image
Share0 Bookmarks 5 Reads0 Likes

जिंदगी यु भी बसर करते है आपने आँगन में ही अजनबी से रहते है

 यादो को संजोय बेजुबन सा दर्पण को तकते है 

 ये दर्पण भी कितने रूप दिखता है मन सोचने को विवस सा हो जाता है

 कितने हि छवी को दर्शाता है और खुद का चेहरा देखने को तरस जता है 

 हँसी खुशी गम आँसु सब तो देखे है और दिखाया है

 अब सोचता है कि अपने लिए क्या बचाया है

 सोचता हूँ अगर दर्पण भी आपना चेहरा देख पाता कितना अच्छा होता

 किसी कि आँखो में उतर जाता इतराता इठ्लाता

 अपने कमियो को देख पाता 

 पर वक्त किसके पास जो उस बेजुबान को भी सराहे

 उसका हाल पुछ जाए कुछ उसकी भी सुन जाए

 वो तो दिवार पे टाँग्ने को लाया गया था सो टंगा है

 देखने वालो कि जरुरत से दिखाता है अपने दिल कि किसको कह पाता है 

 कुछ यही हाल हर घर में दिखता है

 दर्पण दिखाता है देख नही सकता है 


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts