एक नन्ही जलधार's image
Poetry1 min read

एक नन्ही जलधार

Raj vardhan JoshiRaj vardhan Joshi March 15, 2022
Share0 Bookmarks 79 Reads0 Likes
एक नन्ही जलधार
किसी पाषाण से
कितना प्रेम 
कर सकती है
निरंतर शीतलता
आच्छादन 
मस्तक आलिंगन
चरण वंदन 
कर सकती है
बदल सकती है
रूप आकार
स्वभाव और
शनैः शनेः
उस प्रस्तर अगाध
पिण्ड को
धूल कण में
भी बदल
सकती है।
'राज वर्धन जोशी'

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts