तब कैसा-अब कैसा's image
2 min read

तब कैसा-अब कैसा

Raj Shekhar BhattRaj Shekhar Bhatt June 16, 2020
Share0 Bookmarks 42 Reads0 Likes





ये दुनिया है दुनिया का रंग, तब कैसा-अब कैसा।

हर इंसां के जीने का ढंग, तब कैसा-अब कैसा।


मां-बीबी-बहिन-बेटी का रिश्ता, तब भी था और अब भी है।

प्यार-मुहब्बत का फरिश्ता, तब भी था और अब भी है।

हर रिश्ते में है अपनापन, तब कैसा-अब कैसा।


इंसां को मिला-‘तन’-ढकने को वस्त्र बनाये खुद उसने।

रूख को सजाने की खातिर, कई लेप लगाये खुद उसने।

अपने तन को ढकने का ढंग, तब कैसा-अब कैसा।


इश्क़ पे जां देते थे आशिक़, हुस्न के अब दीवाने हैं।

अपने मन से जो जल जायें, अब ऐसे ये परवाने हैं।

दीवानों का दीवानापन, तब कैसा-अब कैसा।


ज्ञान भी था सम्मान भी था, ज्ञान भी है सम्मान भी है।

मानवता का भान था मानव, संस्कारों की खान भी है।

संस्कारों का सारा रंग-ढंग, तब कैसा-अब कैसा।


भक्त भी गिरधर भी हैं, गुण है और गुणगान भी हैं।

झूम उठते भक्ति रस से, वो भक्त बड़े धनवान भी हैं।

भक्ति पे नाचे जो तन ‘राज’, तब कैसा-अब कैसा।


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts