शायरी's image
Share0 Bookmarks 44 Reads0 Likes

इन सूखी शाखों पर जब तक न बसंत आए

तू चांद की चांदनी में लिपट कर आ

समेटूं तुझे में अपनी तन्हाइयों में

मुझ से मिलने को यूं भी तो कभी आ....

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts