ग़ज़ल's image
Share0 Bookmarks 0 Reads1 Likes
सब हदें तोड़ दीं थी उसी के लिए
तोड़ के दिल गई जो किसी के लिए

कोई भी काम उसका अकारत नहीं
छोड़ के वो गई बेहतरी के लिए

क्या हुआ गर वो रस्ते बदलने लगी
आम सी बात है ये नदी के लिए

वस्ल की आरज़ू ने दी हस्ती मिटा
सो अमल-ग़म हुआ मरकरी के लिए

उसके तो ख़्वाब भी देखना जुर्म है
और मैं क़ैद हूं तस्करी के लिए

मकतब-ए-इश्क़ में इश्क़ करते न सब
कुछ तो आते हैं बस हाजिरी के लिए

फूल, इज़हार, इक़रार, बोसा,गले
मुंतज़िर हैं फ़क़त फ़रवरी के लिए

हमको वो इस ज़मीं पे मयस्सर नहीं
आसमां देखते हैं परी के लिए ।

~ वो फिर आएगी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts