ग़ज़ल's image
Share0 Bookmarks 9 Reads0 Likes

रंजो ग़म के भी हैं कितने पहलू अलग

मेरे आँसू अलग उसके आँसू अलग


मत करो अपनी तुलना किसी और से

सारे फूलों की होती है ख़ुश्बू अलग


उसकी आँखों की है ऐसी कारीगरी

जैसे बैठे हो पलकों पे जुगनू अलग


मुझको मिलती है उल्फ़त यहाँ तौल कर

मेरी ख़ातिर हैं उसके तराज़ू अलग


देखो कैसा तमाशा किया ज़ीस्त ने

हो गया इश्क़ में मैं अलग तू अलग


रात भर मुझको वो सोने देती नहीं

मेरे तन-मन पे करती है जादू अलग


वो महकती ही रहती है शाम-ओ-सहर

उसकी ज़ुल्फ़ों में बसती है ख़ुश्बू अलग


उसके कंगन की खन-खन अलग है रचित

उसकी पायल से बजते हैं घुँघरू अलग


Rachit Sonkar

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts