विषमभाव विषतुल्य है !'s image
Poetry1 min read

विषमभाव विषतुल्य है !

R N ShuklaR N Shukla May 20, 2022
Share0 Bookmarks 125 Reads0 Likes
विषमभाव विष तुल्य है !

अमृत  तुल्य   समभाव !

जग में ऐसा कौन है !

करे अमृत का त्याग ?

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts