वह श्यामा ! और ओ बूढ़ा !'s image
Poetry1 min read

वह श्यामा ! और ओ बूढ़ा !

R N ShuklaR N Shukla May 18, 2022
Share0 Bookmarks 97 Reads0 Likes
ओ! एक श्यामा !(सुन्दर स्त्री) !
उपले पाथ रही  नजरें झुकाए !

बगल  से  गुजरता  एक बूढ़ा !
थोड़ा रुका देखा उसकी ओर !

लपलपाती जीभ ! उसकी , और– 
घृणा !  घृणा ! घृणा  ..........

पीछे से पकड़ ली गर्दन बूढ़े की !
चिल्ला  उठा  बूढा ! और –
हँस  पड़ी !  स्त्री !

मैं भी मुस्कराते चल पड़ा अपने रास्ते...
( सही घटना )

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts