उजाले की किरण's image
Poetry1 min read

उजाले की किरण

R N ShuklaR N Shukla May 1, 2022
Share0 Bookmarks 20 Reads0 Likes
       जब  कभी  भी  मैं – 
        निराशाओं के घोर अंधेरे  में –
         उजाले की एक किरण ढूंढता हूँ  ,तो
          कोई अच्छी- सी पुस्तक पढ़ लेता हूँ !

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts