तेरी यादें तेरी बातें's image
Poetry1 min read

तेरी यादें तेरी बातें

R N ShuklaR N Shukla June 27, 2022
Share0 Bookmarks 204 Reads0 Likes
तेरी यादें  भी  क्या  चीज़ हैं !
जैसे मदमस्त हवा का झोंका !
यादआते ही –
महक जाता है दिल !
चहक जाता है दिल !

तेरी बातें भी कुछ कम तो नहीं 
जैसे चाँदनी की ज्योत्स्ना !
नदी की चञ्चल लहरों पर खेलती
चंद्र-किरणों की पाँवों की छम-छम !
याद आते ही –
तेरी  बातों की  सरगम !
मन करने लगता नर्तन !

डूबते चले जाते हैं –
मेरे नृत्य करते पाँव !
तेरी यादों की महा रास में
तेरे  आने  की  आस में !

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts