" श्रम का विवर्तमय पथ "'s image
Poetry2 min read

" श्रम का विवर्तमय पथ "

R N ShuklaR N Shukla July 1, 2022
Share0 Bookmarks 268 Reads1 Likes
हे  कृषक !
धरा के आदि प्राण !
श्रम को है ,साधा तुमने ,
हर  बाधा को दूर किया ,
एक केन्द्र में कर वर्तन !
श्रम-मूल भावनाओं को भर –
श्रम के अनन्त पथ - विंदु 
समेटे चलते हो !

तेरे श्रम की प्रचण्डाग्नि में 
प्रतिकूल भाव हैं जल जाते !
तेरे श्रम के उत्पन्न अन्न से –
प्राणी हैं शोभा पाते !

ओ ! महत् हृदय ! 
श्रम  के  मशाल !
जो भी जितना श्रम करता है 
उसको उतना फल मिलता है
पर , नहीं मिला प्रतिदान मनोहर –
तेरे श्रम का !

तेरा जीवन कितना दुर्वह !
श्रम के घोर विवर्तन ! वर्तन में !
हो  स्वत्वपूर्ण घूमता रहा !
शतघूर्ण बना ! आघूर्ण बना 
पर , नहीं हुआ उन्मोचन !
तेरे  जीवन  का !
श्रम के विवर्तमय पथ पर , तू–
चलता ही रहा , नहीं रुका –
क्षण भर भी !

ओ ! कृश गात ! 
वंदित हैं तेरे कर्म सकल !
प्रेम-सुधा ! बरसाते तुम हो 
नित मङ्गल के गीत तुम्हीं गाते हो !
तेरे  जीवन में –
कब होगा प्रात ?

ओ कर्म-पथिक !
घात और प्रतिघात 
न जाने कितना सहते !
लोगों की ना जाने कितनी
कड़वी बातें सुनते ! फिर भी –
कभी नहीं विचलित होते –
अपने पथ से !
नहीं करते कुछ भी प्रतिवाद !

हे उर के उदार !
तेरा 'उर' अम्बुधि-सा विशाल !
हृद पर तू कितने सहे घाव !
फिर भी श्रम को है अपनाया !
औ' दूर किया नैश्यान्धकार !
इस जग से !
हो गए पार तुम तम से !

श्रम का यह पथ –
भाता  जिनको  जीवन में !
नैराश्य कहाँ आता ? उनके मन में ?

भर  दो !  भर  दो ! 
ऐसा वर दो –इस जग को 
धन – धान्य - धाम ! 
आपूरित कर दो !
मिटें सभी मालिन्य-भाव !

हे ज्योति प्रखर !
इस अवनी से , उस अम्बर तक !
गहन तिमिर को चीर ! जलधि –
आन्दोलित कर दो !
भर दो प्रकाश !
खिल उठें दिशाएं ! अष्ट याम !
                      ~राम निवास शुक्ल 




No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts