मौत को मात देती जिंदगी !'s image
Poetry1 min read

मौत को मात देती जिंदगी !

R N ShuklaR N Shukla April 2, 2022
Share0 Bookmarks 85 Reads0 Likes
मौत आ भी जाये तो क्या –

डरती  है  जिंदगी  ?  नहीं–

स्वयं को जीकर ही रहती है जिंदगी !

कहाँ रुकी है ? कभी चुकी है,कहीं झुकी है ,

तो फिर सम्हल कर खड़ी हो, चल देती है जिंदगी !

कैंसर जैसी साक्षात् मौत को  मात देती –

पत्थर  पर  दूब  उगा  देती  है  जिंदगी !

इस तरह गर्मजोशी से स्वयं को  –

जीती  जाती  है  जिंदगी;  और –

अपने  अदम्य  साहस  की  कहानी -

स्वर्णाक्षरों  में  लिख जाती है  जिंदगी !!

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts