मजदूर !'s image
Share0 Bookmarks 47 Reads0 Likes
मालिक और मजदूर !
कितना  फर्क  है ! 
मैं एक मजदूर !
मेरा जाँगर –
धनिकों के लिए
सोने की  कुदाल है !
पर , 
मेरा  जीवन –
मिट्टी है ! कंकड़ है ! प्रस्तर है !
मैंने सभी के लिए –
महल सरीखे घर बनाये !
पर , आज भी झोपड़ी में
रहने को मजबूर हूँ ! 
मैं शोषित मजदूर हूँ !

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts