लोग जल रहे हैं's image
Poetry1 min read

लोग जल रहे हैं

R N ShuklaR N Shukla April 15, 2022
Share0 Bookmarks 122 Reads0 Likes
ख़बर मिली कि शहर में कहीं आग लगी !

बुझाने आग ! जब पहुंचा वहॉं पानी लेकर ,

तो  ये  मालूम  हुआ – नफरतों  की  लपटें–

आसमाँ छू रही हैं और "लोग जल रहे हैं ।"






No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts