लहरेला तिरंगा's image
Poetry1 min read

लहरेला तिरंगा

R N ShuklaR N Shukla August 15, 2022
Share0 Bookmarks 0 Reads0 Likes
लहर लहर लहराय हो हमरे झंडा तिरंगा
ओही रे तिरंगा में बसेला हमरे मनवा 
बसेला मोरे मनवा  रमेला मोरे मनवा
एकरे खातिर न्योछावर बा परान हो !
लहरेला तिरंगा ..

तीनि सौ सत्तर के कलंक मिटल बा
लाल चौक पे तिरंगा फहरल बा 
देखि दुश्मन होगइलें परेशान हो 
लहरेला तिरंगा ..
लहर लहर लहराय हो...

जनता अभय भइल देश अगराइल !
आज  कश्मीर  के  छाती जुडाइल !
सबके मिलि गइलें अवसर हजार हो
लहरेला तिरंगा ....
लहर लहर लहरायल हो 
घर-घर में तिरंगा...

जम्बू हँसेला लद्दाख हँसेला 
देश हँसेला विदेश हँसेला 
देखि-देखि दुश्मन के छाती जरेला
जनता के मिलल अधिकार हो
लहरेला तिरंगा .....

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts