क्या करें ? कहाँ जायँ !'s image
Poetry1 min read

क्या करें ? कहाँ जायँ !

R N ShuklaR N Shukla October 12, 2022
Share0 Bookmarks 175 Reads0 Likes
भाई-भतीजावाद और –
भ्रष्ट्राचार के शिकार  !
कवि ! लेखक ! साहित्यकार !
प्रशिक्षित–शिक्षक ! पत्रकार !
शिक्षक ! मजदूर ! किसान !
आदि ......आदि ......अनंत !
भ्रष्टाचार का  नहीं है अन्त ! 

मूर्ख !  मालामाल !
बुद्धिजीवी बदहाल !

समझदार ,
लोकतंत्र के स्तंभकार ,
समाज   के  कर्णधार ,
दलालों के सामने –
कितने निरीह ! कितने लाचार ?

नौकरी !  किसे नहीं है प्यारी !
किंतु  कभी नहीं आती इनकी बारी !
क्योंकि नहीं आती है इन्हें चाटुकारी !
पर , निभानी आती है  इनको  यारी !

हाय रे इनका दुर्भाग्य !
इनका भाग्य ! धन ! पद ! अन्न !
खा जाते भ्रष्टाचारी और अन्य !

भ्रष्टाचार  के  खिलाफ !
बोलते हैं ये जोरदार !
पर कोई नहीं सुनता  
इनकी आवाज़ ! और–
कुछ भी नहीं निकलता 
समाधान !

उन सबों के लिए –
ये   –  आवाजें !
बेकार की बातें !

लगता है –
भ्रष्टाचार की जड़ें –
बहुत गहरे तक गड़ी हैं !
इसी से बुलंद खड़ी हैं,अड़ी हैं !
कुछ नहीं सूझता उपाय !
क्या करें  ?  किससे कहें  ?
कहाँ  जाँय  ?








No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts