ख़्वाहिश दिल की !'s image
Poetry1 min read

ख़्वाहिश दिल की !

R N ShuklaR N Shukla August 13, 2022
Share0 Bookmarks 197 Reads0 Likes
मुझे हर्गिज ये ख़्वाहिश नहीं

कि तू मुझे प्यार करे !

चाहत बस इतनी - सी है कि -

सामने तू बैठी रहे , और

ये दिल तेरा इंतजार करे ...

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts