कवि और कविता's image
Poetry1 min read

कवि और कविता

R N ShuklaR N Shukla April 18, 2022
Share0 Bookmarks 63 Reads0 Likes
कवि हर क्षण खपाता है 

मन– मष्तिष्क !

शरीर और प्राण !

तब सृजित होती है–

कविता !

शरीर मरता है,आत्मा नहीं !

कवि मरता है,कविता नहीं!!

कवि के "प्राण"होते हैं शब्द !

और ये 'शब्द'मरते नहीं कभी ।

"शब्द ही ब्रम्ह है"  उपनिषद् –

ऐसा  कहता है !

शब्द नहीं मरता है !

'कवि' मरकर भी–

अमर  रहता है ।


कवि  –  कविता और  शब्द  !

एक दूसरे से कुछ इस तरह से

रहते हैं–  सम्बद्ध और आबद्ध

जैसे कि – शब्द में उसका अर्थ !

और प्रतिबद्ध रहते हैं उन-उन

प्रासंगिक मुद्दों –समस्याओं से

जो होती हैं –समयऔर जन की बात !

और कविता बन जाती है–आवाज ! 

सौंदर्य  से भर  उठती है – कविता !!









No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts