जिंदगी को पार कर लो's image
Poetry1 min read

जिंदगी को पार कर लो

R N ShuklaR N Shukla September 15, 2022
Share0 Bookmarks 0 Reads0 Likes
एक  नया  निर्माण  फिर से
आओ करें हम प्यार फिर से

लो तुम्हारे पास आया !
जिंदगी का सार लाया !

कल  किसे  जाना कहाँ है
क्या पता ? किसको खबर है

'आज' को तुम प्यार कर लो
जिंदगी को पार कर लो !

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts