इश्क़ का दीदार's image
Poetry1 min read

इश्क़ का दीदार

R N ShuklaR N Shukla April 15, 2022
Share0 Bookmarks 70 Reads0 Likes
इश्क़  का  दीदार  देखा

अलविदा  करता  हुआ–

एक  चाँद  देखा  !

ग़म  में  डूबी  हुई –

वो  रात  देखा। !  फिर –

तिमिर  को दूर  करता –

वह ! सुनहरा  प्रात  देखा !!
             


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts