देर मत कर !'s image
Poetry1 min read

देर मत कर !

R N ShuklaR N Shukla May 14, 2022
Share0 Bookmarks 138 Reads0 Likes
भावनाओं की –
दुनिया में–बहो मत !
उनमें सम्भावनाओं की –
तलाश कर !
उन्हीं में कहीं छुपा है –
तुम्हारा – सुनहरा कल !
पल - पल चल !
देर  मत कर  !
 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts